12th Ke Baad Kya Kare Science Student: जानिए आपके लिए कोनसा होगा सही विकल्प?

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

12वीं विद्यार्थियों के शैक्षणिक जीवन का सबसे महत्वपूर्ण चरण है, क्योंकि यही वह क्षण होता है जिससे छात्रों के लिए भविष्य के कई नए अवसर पैदा होते हैं. जबकि, अधिकांश छात्र 12वीं परीक्षा के बाद सीईटी (CET), नीट (NEET) जैसे Entrance Exam के लिए तैयारी कर रहे होते हैं ताकि उन्हे किसी अच्छे कॉलेजों में प्रवेश मिल सके.

प्रत्येक छात्र परीक्षा के लिए अपनी सर्वश्रेष्ठ तैयारी करता है ताकि उसका भविष्य उज्ज्वल हो. कई छात्र अपनी क्षमता के अनुसार यह निर्णय लेते है कि उसे कौन सा करियर चुनना चाहिये. लेकिन अधिकांश छात्र 12वीं के बाद क्या करें (12th ke baad kya kare) इसकी जानकारी नहीं होने के कारण गलत करियर चुन लेते हैं और कुछ वर्षों के बाद उन्हें चुने गए करियर पर पछतावा होता है, लेकिन तब तक समय निकल जा चुका होता है, इसलिए छात्रों के लिए 12वीं के बाद करियर चुनते समय सही निर्णय लेना जरूरी है.

तो सही कोर्स चुनने के लिए हमने इस लेख मे आपको बताया है की 12th Ke Baad Kya Kare, 12th Ke Baad Kya Kare Science Student, 12 के बाद क्या करना चाहिए, 12th Science Ke Baad Kya Kare, 12 के बाद क्या करे Science तो इस लेख को पूरा पढे और अपने भविष्यको उज्वल बनाने के लिए सही विकल्प चुने.

12वीं Science के बाद क्या करें? (12th Ke Baad Kya Kare Science Student)

12वीं Science पास करने के बाद आपके पास कई करियर विकल्प छात्रों के लिए उपलब्ध होते हैं. उसमें से आप अपने लिए उपयुक्त कोर्स में दाखिला लेकर अपने करियर की शुरूवात कर सकते हैं. आपकी रुची और भविष्य में रोजगार के अवसर को देखते हुवे सही विकल्प चुने.

12th Science के बाद उपलब्ध कोर्सेस: आपके करियर के विकल्प

  • BSc (Bachelor of Science)
  • B.E. / B.Tech. (Bachelor in Engineering & Bachelor in Technology)
  • Diploma
  • BCA (Bachelor of Computer Applications)
  • B.Arch (Bachelor of Architecture)
  • B. Pharmacy (Bachelor of Pharmacy)
  • Pharm D (Doctor of Pharmacy)
  • MBBS (Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery)
  • BDS (Bachelor of Dental Surgery)
  • BAMS (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery)
  • BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery)
  • BPT (Bachelor of Physiotherapy)
  • D. Pharm. (Diploma in Pharmacy)
  • BASLP (Bachelor of Science in Audiology and Speech-Language Pathology)
  • BOT (Bachelor of Occupational Therapy)
  • BPO (Bachelor of Prosthetics and Orthotics)

तो यह कोर्सेस आप 12th Science के बाद कर सकते है, इन सभी कोर्सेस के बारे मे हम संक्षेप में जानकारी लेंगे ताकि आप को सही कोर्स चुनने मे आसानी हो.

BSc (Bachelor of Science)

BSc (Bachelor of Science) 12वीं Science के बाद 3 साल की अवधि के लिए एक Undergraduate कोर्स है. ये कोर्स पूरा करने के बाद छात्रों को Degree Certificate दिया जाता है.

बीएससी के बाद छात्र MSC (Master Of Science) में भी प्रवेश ले सकते हैं, साथ ही, वे एक विषय को चुनकर उस पर PHD कर सकते हैं.

इस कोर्स के बाद छात्रों के लिए कई विकल्प खुलते हैं इसमे विभिन्न उद्योगों, स्वास्थ्य सेवाओं, शिक्षकों में नौकरी के अवसर उपलब्ध हैं.

B.E. / B.Tech. (Bachelor in Engineering & Bachelor in Technology)

12वीं साइंस के बाद Degree कोर्स जो छात्रों को करियर के अधिकतम अवसर देता है. इस कोर्स की अवधि 4 साल है और इसमें बीई मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सूचना प्रौद्योगिकी इंजीनियरिंग, ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग, फायर एंड सेफ्टी इंजीनियरिंग, टेक्सटाइल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, इंडस्ट्रियल इंजीनियरिंग, सिरेमिक इंजीनियरिंग शामिल हैं.

छात्र इससे उत्पन्न होने वाले भविष्य के अवसरों के बारे में जानकारी लेके एक सही विकल्प चुन सकते हैं और उस कोर्स के लिए प्रवेश ले सकते हैं.

B.E. / B.Tech. पूरा करने के बाद छात्र M.Tech. के लिए प्रवेश ले सकते हैं. इसके बाद आप औद्योगिक प्रबंधक, ऑपरेशंस एनालिस्ट, मैनेजमेंट इंजीनियर, प्लांट इंजीनियर, कंस्ट्रक्शन इंजीनियर जैसे कई महत्वपूर्ण और अच्छे वेतन वाले पदों पर काम कर सकते हैं.

Diploma

अगर कोई छात्र भविष्य में इंजीनियर बनने का सपना देखता है और अच्छा कौशल देने वाला कम अवधि का कोर्स करना चाहता है तो डिप्लोमा आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है.

एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग, केमिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, बायोमेडिकल इंजीनियरिंग, पेट्रोलियम इंजीनियरिंग और अन्य कम अवधि और अच्छे कौशल प्राप्त करने वाला कोर्स आप कर सकते हैं.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद कई उद्योगों में नौकरी या रोजगार के कई अवसर उपलब्ध होते हैं. छात्र डिप्लोमा पूरा करके डिग्री भी हासिल कर सकते हैं.

BCA (Bachelor of Computer Applications)

BCA (Bachelor of Computer Applications) कोर्स की अवधि 3 वर्ष है और यह 12वीं Science के बाद किया जाने वाला एक Undergraduate कोर्स है.

यदि छात्र कंप्यूटर क्षेत्र में रुचि रखते हैं तो यह कोर्स उनके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है. इस कोर्स का पाठ्यक्रम कंप्युटर सायन्स, प्रोग्रामिंग, सॉफ्टवेयर ऍप्लिकेशन पर आधारित है.

इस कोर्स को पूरा करने से छात्रों को आईटी सेक्टर, सॉफ्टवेयर डेवलपर आदि में नौकरी के कई अवसर मिलते हैं और वर्तमान युग में आईटी सेक्टर में काम करने के लिए युवाओं की काफी मांग है.

B.Arch (Bachelor of Architecture)

B.Arch का मतलब Bachelor of Architecture है और इस कोर्स की अवधि 5 साल है. इस कोर्स का पाठ्यक्रम आर्किटेक्चर टेक्नीक, कन्स्ट्रक्शन डिजाइन और प्रौद्योगिकी के संदर्भ में तैयार किया गया है और B.Arch कोर्स पूरा करने के बाद छात्र कन्स्ट्रक्शन क्षेत्र में प्रवेश कर सकते हैं.

बढ़ते शहरीकरण के कारण निर्माण क्षेत्र में अच्छे दिन आए हैं. इस कोर्स के बाद छात्रों के लिए आर्किटेक्चर फर्म, कन्स्ट्रक्शन कंपनी और रियल एस्टेट जैसे कई सारे अवसर उपलब्ध हैं. इसके अलावा, छात्र M.Arch में प्रवेश लेकर अपने ज्ञान को और बढ़ावा दे सकते हैं.

12th Ke Baad Kya Kare Science Student PCB

अगर आपने 12th मे PCB ग्रुप लिया होगा तो आपके लिए मेडिकल क्षेत्र मे करिअर करने के लिए कोर्सेस के कई सारे विकल्प उपलब्ध है. छात्र अपने रुचि और योग्यता के अनुसार नीचे दिए हुवे कोर्स को चुन के उस मे अपना भविष्य निर्माण कर सकते है.

B. Pharmacy (Bachelor of Pharmacy)

B. Pharmacy कोर्स की अवधि चार वर्ष है और इस कोर्स का सिलेबस फार्मास्युटिकल साइंस, ड्रग डेवलपमेंट और ड्रग मैनेजमेंट से संबंधित है.

B. Pharmacy कोर्स पूरा करने के बाद छात्र M. Pharmacy भी कर सकते हैं. देश-विदेश में फार्मास्युटिकल कंपनियों, मेडिकल, अस्पतालों के साथ-साथ मेडिकल से जुड़ी कई कंपनियों में छात्रों के लिए करियर के ढेरों अवसर उपलब्ध हैं.

Pharm D (Doctor of Pharmacy)

इस कोर्स की अवधि 6 साल है और इसमें मरीजों के इलाज के लिए दवाएं तैयार करना, दवाओं का चयन और उपयोग, मरीजों की जांच इस पर आधारित पाठ्यक्रम शामिल है.

Pharm D कोर्स को पूरा करने के बाद आपको नौकरी के कई अवसर मिलते हैं जैसे रिसर्च साइंटिस्ट, रेगुलेटरी अफेयर्स मैनेजर, मेडिकल राइटर, क्लिनिकल फार्मासिस्ट, फार्मेसी मैनेजर, फार्मेसी टेक्निकल आदि.

MBBS (Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery)

MBBS एक प्रकार का व्यावसायिक प्रशिक्षण है. इसका आधार छात्रों को चिकित्सा शिक्षा प्रदान करना और उन्हें भविष्य में चिकित्सा क्षेत्र में काम करने के लिए तैयार करना है. MBBS ये कोर्स 5.5 साल का होता है और इस कोर्स को पूरा करने के बाद छात्र निजी या सरकारी अस्पताल मे एक डॉक्टर के रूप में काम कर सकते हैं. या फिर वे खुद का क्लिनिक शुरू कर प्रैक्टिस कर सकते हैं.

इनमें मुख्य रूप से त्वचा विशेषज्ञ, दंत चिकित्सक, स्त्री रोग विशेषज्ञ, चिकित्सा विश्लेषक, रोगविज्ञानी, रेडियोलोकेटर, न्यूरोलॉजिस्ट, सर्जन जैसे कई सारे विकल्प छात्रों के उपलब्ध होते है.

BDS (Bachelor of Dental Surgery)

Bachelor of Dental Surgery कोर्स एक प्रोफेशनल कोर्स है और इस कोर्स का आधार छात्रों को दंत चिकित्सा में विशेषज्ञ बनाना है. इस कोर्स की अवधि 4 से 5 साल है.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद छात्र प्राइवेट प्रैक्टिस कर सकते हैं, या किसी बड़े निजी या सरकारी अस्पताल में दंत चिकित्सक के रूप में काम करना, मेडिकल कॉलेज में दंत चिकित्सा पाठ्यक्रम पढ़ाना, दंत चिकित्सा उद्योग में दंत अनुसंधान करना आदि जैसे कई सारे विकल्प उपलब्ध होते है.

BAMS (Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery)

BAMS यह 12वीं कक्षा के बाद आयोजित किया जाने वाला एक Undergraduate कोर्स है और इस कोर्स की अवधि 5.5 साल है जिसमें छात्रों को 1 साल की इंटर्नशिप भी दी जाती है.

इस पाठ्यक्रम मे आयुर्वेदिक चिकित्सक बनने के लिए आवश्यक ज्ञान को शामिल किया गया है. BAMS की Degree प्राप्त करने के बाद, छात्र सरकारी या निजी अस्पताल में डॉक्टर के रूप में काम कर सकते हैं, या खुद का क्लिनिक शुरू कर के प्रैक्टिस कर सकते हैं. इस क्षेत्र में आयुर्वेदिक चिकित्सा या अनुसंधान संस्थान जैसे कई अवसर उपलब्ध हैं.

BHMS (Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery)

Bachelor of Homeopathic Medicine and Surgery इसका पाठ्यक्रम होम्योपैथिक चिकित्सक बनने के लिए आवश्यक सिद्धांतों पर केंद्रित है. यह 12वीं के बाद आयोजित किया जाने वाला एक Undergraduate कोर्स है और इस कोर्स की अवधि 5 साल है. इसमें 4 साल का कॉलेज शिक्षण और एक साल की इंटर्नशिप शामिल है.

कोर्स पूरा करने के बाद छात्र होम्योपैथिक फार्मेसी, बाल रोग, मनोचिकित्सा, त्वचाविज्ञान, बांझपन विशेषज्ञ जैसे कई क्षेत्रों में काम कर सकते हैं.

BPT (Bachelor of Physiotherapy)

यह कोर्स एक Undergraduate कोर्स है और स्वास्थ्य क्षेत्र में एक अच्छा फिजियोथेरेपिस्ट बनने का पूरा पाठ्यक्रम इस कोर्स में शामिल है. इस कोर्स की अवधि 4 साल है और कोर्स पूरा होने के बाद छात्रों को एक साल की इंटर्नशिप दी जाती है.
यह कोर्स पूरा करते ही छात्रों के लिए कई सारे विकल्प खुल जाते है.

वर्तमान स्थिति में फिजियोथेरेपिस्ट की मांग बहुत अधिक है. छात्र अपना क्लीनिक शुरू कर सकते हैं या सरकारी और निजी नौकरियों के लिए आवेदन कर सकते हैं. या अपना खुद का स्वास्थ्य केंद्र, फिटनेस सेंटर या वेलनेस सेंटर शुरू करें के इसमें एक अच्छा करियर बना सकते है.

D. Pharm. (Diploma in Pharmacy)

यह भी एक डिप्लोमा स्तर का कोर्स है और कोर्स का पाठ्यक्रम फार्मास्युटिकल से संबंधित है. अगर छात्र 12वीं और PCB ग्रुप से उत्तीर्ण हैं तो वे इस कोर्स के लिए प्रवेश ले सकते हैं. इस कोर्स की अवधि 1-2 साल है.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद उनके सामने कंसल्टेंट फार्मासिस्ट, क्लिनिकल फार्मासिस्ट, डिस्पेंसरी फार्मासिस्ट, कम्युनिटी फार्मासिस्ट, हॉस्पिटल फार्मासिस्ट मेडिसिन, मैनेजमेंट टेक्निशियन जैसे कई विकल्प खुले होते हैं.

BASLP (Bachelor of Science in Audiology and Speech-Language Pathology)

BASLP एक Undergraduate कोर्स है और ऑडियोलॉजी के क्षेत्र में सबसे अच्छे कोर्स में से एक है. यह कोर्स मुख्य रूप से ऑडियोलॉजी, लैंग्वेज पैथोलॉजी और स्पीच पैथोलॉजी पर आधारित है. ये कोर्स की अवधि 4 साल होती है.

कोर्स पूरा होने के बाद क्लीनिकल सुपरवाइजर, स्पीच थेरेपिस्ट, ऑडियो थेरेपिस्ट, स्पीच पैथोलॉजिस्ट रीडर जैसे कई विकल्प खुलते हैं.

BOT (Bachelor of Occupational Therapy)

BOT (Bachelor of Occupational Therapy) कोर्स को शारीरिक और मानसिक रूप से विकलांग मौजूदा पाठ्यक्रम के अधार पर डिजाइन किया गया है. इस कोर्स की अवधि 4 से 5 साल है और यह चिकित्सा क्षेत्र में सबसे अच्छे पाठ्यक्रमों में से एक है.

अच्छी सैलरी और अच्छे करियर के लिए यह एक अच्छा कोर्स है. इसमें ऑक्यूपेशनल थेरेपी टेक्निशियन, नर्सिंग होम, मेंटल हॉस्पिटल, ओटी नर्स, प्राइवेट प्रैक्टिशनर जैसे कई रास्ते हैं.

BPO (Bachelor of Prosthetics and Orthotics)

BPO (Bachelor of Prosthetics and Orthotics) ये 4 साल के अवधि का कोर्स है और इस कोर्स का पाठ्यक्रम प्रोस्थेटिक्स, ऑर्थोपेडिक ब्रेसिज़ और अन्य चिकित्सा उपकरणों के डिजाइन और निर्माण पर आधारित है.

इस कोर्स को पूरा करने के बाद छात्र सरकारी या निजी अस्पतालों में प्रोस्थेटिस्ट और ऑर्थोटिस्ट के रूप में काम कर सकते हैं या आगे उच्च शिक्षा के कई अवसर हैं.

सारांश

उपरोक्त लेख में हमने 12th Ke Baad Kya Kare, 12th Ke Baad Kya Kare Science Student, 12 के बाद क्या करना चाहिए, 12th के बाद सबसे अच्छा कोर्स कौन सा है? इन जैसे कई सारे सवालों के जवाब देने की कोशिश की है ताकि छात्र एक अच्छा रास्ता चुन सकें और अपना भविष्य उज्ज्वल बना सकें. हमें उम्मीद है कि आपको इस सवाल का जवाब मिल गया होगा. यदि इस लेख मे दी गई जानकारी के बारे में आपका कोई प्रश्न है तो आप हमें कमेंट्स के माध्यम से बता सकते हैं या यदि आपके पास कोई और जानकारी उपलब्ध है तो आप हमें मेल कर सकते हैं. हम उस जानकारी को अपने आर्टिकल में शामिल करने की पूरी कोशिश करेंगे.

जरूर पढे

FAQ’s

  • 12वीं साइंस के बाद सबसे अच्छा कोर्स कौन सा है?

    12वीं के बाद सबसे अच्छा कोर्स आपके इंटरेस्ट्स, प्रतिभाओं, और लक्ष्यों पर निर्भर करता है. (PCM) वालों के लिए B.Tech और B.E, और (PCB) वालों के लिए MBBS, BDS, या Pharmacy अच्छे विकल्प हो सकते हैं.

  • साइंस स्ट्रीम से क्या क्या बन सकते हैं?

    वैज्ञानिक, डॉक्टर, और फार्मासिस्ट के अलावा, साइंस स्ट्रीम से आप अन्य कई रोजगार विकल्पों को भी चुन सकते हैं. आप दंत चिकित्सक, ऑर्थोडोन्टिस्ट, नर्स, या अन्य स्वास्थ्य सेवा पेशेवरों के रूप में भी काम कर सकते हैं. साथ ही, आप शिक्षक, विज्ञान लेखक, या डिजाइन इंजीनियर के रूप में भी अपना करियर बना सकते हैं. इस तरह, आपके रुचियों और प्रतिभाओं के अनुसार विभिन्न रोजगार अवसरों का चयन कर सकते हैं.

इस पोस्ट को शेयर करें :

Leave a Comment